Inspirational Stories Hindi Short पागलपन

Inspirational Stories hindi short

Inspirational Stories Hindi short – आज बात करेंगे कुछ पागल लोगो की ,जिसके पागलपन को देख दुनिया उन पर हँसती थी। ‘टूरिस्ट गाइड का काम करने वाला मामूली सा इंसान, एक छोटी सी नौकरी के लिए भी 30 बार इंटरव्यू में फेल हुआ इंसान, आज चीन का सबसे रईस आदमी है बात कर रहे है, ‘अलीबाबा ‘के फाउंडर ‘जैक मा ‘की।

यह किस्मत का नहीं मेहनत का खेल है। सफलता पाने के लिए पागलपन का खेल है। ऐसा ही पागलपन था नवाजुद्दीन सिद्दीकी के अंदर अपनी एक्टिंग को लेकर अपने इस पागलपन के लिए, दिन में चौकीदार की नौकरी की। भूखे पेट सोया। 14 साल तक फिल्म इंडस्ट्री में खुद को साबित करने के लिए दिन रात एक कर दिया। और आज शायद ऐसा ही कोई भारतीय हो, जिसको नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में मालूम ना हो। जो अपने कला और अभिनय से दर्शकों के दिलो पर राज करते हैं। 

सोचो क्या होता अगर महेंद्र सिंह धोनी ने भी रिस्क ना लिया होता, तो टीम इंडिया के लिए खेलने का उनका सपना, सपना ही रह जाता। सरकारी नौकरी छोड़ने के फैसले को उस समय भी लोगों ने पागलपन ही बोला था। क्या होता अगर उस समय महेंद्र सिंह धोनी लोगों की बातों में आ गए होते।

Inspirational Stories hindi short

दुनिया में हर शोहरत  के पीछे कई सालों की कड़ी मेहनत होती है। जब सारी दुनिया आप से कहे कि हार मान लो और आपका दिल आपसे कहे कि एक बार और कोशिश करो तो हमेशा अपने दिल की सुनो।

एक लड़की जिसकी 18 साल की उम्र में बिना मर्जी के शादी कर दी गई थी। शादी के महज 2 साल बाद कार एक्सीडेंट में उस लड़की के कमर के नीचे का पूरा हिस्सा खराब हो चुका था। वह कभी मां नहीं बन सकती थी। उनके पति ने भी उन्हें छोड़ दिया लेकिन कभी हार न मानने का जज्बा और जीत के लिए पागलपन की वजह से आज उस लड़की को पाकिस्तान के आयरन लेडी कहा जाता है। सफलता की भूख

मैं बात कर रहा हूं मुनीबा मजारी की जो आज संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की नेशनल एंबेस्डर है। अगर इतिहास की बड़ी सफलताओं को लोगों ने अपने जुनून के दम पर हासिल किया है, तो आज भी अगर आप कोई बड़ी सफलता हासिल करना चाहते हैं, तो उसके लिए अपने अंदर जुनून जगाना होगा। क्योंकि आपके अंदर का जुनून आपकी सारी उर्जा को एक दिशा में फोकस कर देता है। और फिर आपको अपने लक्ष्य के अलावा और कुछ दिखाई नहीं देता।

क्या खूब कहा है किसी ने – ” यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल एक जुनून सा दिल में जगाना होता है, जब पूछा चिड़िया से कि कैसे बना तेरा आशियाना, तो बोली भरनी पड़ती है बार-बार उड़ान और तिनका तिनका उठाना पड़ता है।”

 

बात करें भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह की तो क्रिकेट खेलने की इतनी दृढ़ इच्छाशक्ति थी, कि उन्होंने कैंसर जैसे घातक बीमारियों को भी हरा दिया। दशरथ मांझी जैसे एक मामूली इंसान ने अपने दृढ़ इच्छाशक्ति के दम पर छैनी और हथौड़े से पहाड़ में से रास्ता बना दिया।

 

बारिश की एक बूंद भी भले ही छोटी होती है, लेकिन उसका लगातार बरसना नदी का बहाव बना देता है। अपने सपनों पर इतनी मेहनत करो कि जो आज हंस रहे हैं तुम पर वह कल तुमसे मिलने की सपने देखें।

 

दोस्तों जिंदगी में सफलता पाने के 3 नियम होते हैं। खुद से वादा, मेहनत ज्यादा और मजबूत इरादा

 

जैसे कभी नदी में गिरने से किसी की मौत नहीं होती, मौत कब होती है जब उसे तैरना नहीं आता। इसी तरह कोई भी परिस्थिति समस्या नहीं होती, वह समस्या तब बन जाती है जब हमें उस परिस्थिति से निपटना नहीं आता। यह बात हमेशा याद रखना की आपके इच्छाशक्ति के सामने दुनिया की कोई भी ताकत नहीं टिक सकती है।

 

कुछ कर गुजरने के लिए मौसम नहीं मन चाहिए, साधन भी सारे जुड़ जाएंगे बस संकल्प का धन चाहिए।

तकदीर बदल जाती है जब इरादे मजबूत हो वरना उम्र कट जाती है तकदीर को इल्जाम देते देते।

दोस्तों अगर मेहनत आदत बन जाए तो कामयाबी मुकद्दर बन जाती है। 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*